RSTV Vishesh – 23 April 2019 : ईरान पर प्रतिबंध- भारत के विकल्प

  • 🎬 Video
  • ℹ️ Description
RSTV Vishesh – 23 April 2019 : ईरान पर प्रतिबंध- भारत के विकल्प5
मेरिका ने ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध लगाते हुए भारत चीन समेत कुछ देशों को ईरान से सीमित मात्रा में तेल आयात की छूट दी थी जिसे अब खत्म करने का ऐलान किया है। इससे अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों के बढ़ने के पूरे आसार हैं। आज के विशेष के इस अंक में बात करेंगे ईरान पर लगने वाले प्रतिबंधों की, साथ ही जानेंग कि इसके बाद भारत के पास अपनी ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए कौन-कौन से विकल्प मौजूद है, इसके अलावा ईरान-अमेरिका परमाणु समझौता और भारत-ईरान संबंधों पर भी चर्चा करेंगे...

Anchor – Vaibhav Raj Shukla
Producer - Ritu Kumar, Rajeev Kumar
Production – Akash Popli
Reporter - Bharat Singh Diwakar
Graphics - Nirdesh, Girish, Mayank
Video Editor - Satish Chandra, Chandan Kumar, Vaseem

Download — RSTV Vishesh – 23 April 2019 : ईरान पर प्रतिबंध- भारत के विकल्प

Download video
💬 Comments on the video
Author

भारत एक संप्रभु राष्ट्र है उसे अपने पक्ष में फैसले लेने का पूरा अधिकार है अमेरिका को लगता है कि परमाणु हथियार ईरान बना रहा है तो जांच करे जब सही हो तब प्रतिबंध लगाए दुनिया आतंक की झेल रही है अगर ईरान आतंक की मदद करता है अमेरिका को अपनी जांच एजेंसी को बैठा देनी चाहिए न कि तानाशाही रवैया अपनाए

Author — Arun Kumar

Author

हम तो कहते हैं कि पुरा विश्व मिलकर अमेरिका पर प्रतीबंध लगा दे।ऐसे स्वार्थी देस के साथ संबंध रखना विश्व के लिए ख़तरनाक है।

Author — Veerbahadur Gupta

Author

हमें सोलर energy पर काम तेजी से करना चाहिए...

Author — arvind kumar

Author

संयुक्त राज्य अमेरिका पाकिस्तान पर प्रतिबंध क्यूं नहीं लगा राह है

Author — Saurabh Jain

Author

अमेरिका द्वारा यह कदम उठाना उचित नहीं साबित होगा क्योंकि ऐसा कर देने मात्र से आतंकवाद नही कम किया जा सकता है और परमाणु ऊर्जा सम्बंधित जो भी संदेह है अमेरिका को तो उसके लिय वह जाँच करवाये ।
प्रतिबन्ध लगने से अगर भारत ईरान से तेल आयात नहीं करेगा तो भारत को आर्थिक समस्या झेलना पड़ सकता है ।

Author — PANKAJ KUMAR YADAV

Author

Best channel RSTV, DD news, Study IQ dekho mast raho

Author — Rahul anand

Author

Sabse Bada motherchod desh America hai aatankwad Ko badhane dene wala America hi
jaise Pakistan ko sabse jyada

Author — Boss Baap

Author

अमेरिका अपने फायदे के लिए कुछ भी कर सकता है ।बिना जुर्म साबित हुए भी किसी पर बैन लगाता रहता है ।भारत परमाणु संपन्न देश है ।अब हमे किसी से घबराने की जरूरत नहीं है ।अपने फायदे के लिए ईरान से तेल खरीदना चाहिए

Author — MD SHAHNAWAZ

Author

अमेरिका। का कहना है कि भारत। केलिए अन्य विकल्प भी है यानी इसमें भारत बाज़ी मार लेे जाएगा
लेकिन देखना यह हे की यह कितना कारगर साबित होता है
मुश्किल आना टी लाजमी है लेकिन हमको यही सिखाया जाता है कि कैसे किसी से निपटे कि दोनों देश के सम्बन्ध भी।बने रहे काम।भी हो हमारा
जय हिन्द जय भारत

Author — Gulshan Kumar

Author

इस समस्या पर USA के खिलाफ भारत, चीन व रूस को एक मंच पर आना चाहिए ।

Author — pradeep patel

Author

We must have to learn a great lesson from this incidence... We have to avoid any kind of over-dependency on USA.. in any sector majoraly in security and defence sector...

Author — surya mani singh

Author

It is bad for Indian economy and bilateral relationship with Iran.

Author — THERMOGRAM

Author

Definitely, USA never became anyone friend like Russia. USA = most self centered nation of world

Author — Rahul

Author

इराक को भी संदेह के आधार पर अमेरिका ने बर्बाद कर दिया लेकिन अभी तक निकला कुछ भी नहीं अब ईरान निशाने पर हैं अभी तक कुछ भी नहीं आया सामने। जहां पूरा विश्व सुन्नी आंतकवाद से लड़ रहा है वहीं अमेरिका शियाओं को निशाना बना रहा है।

Author — rajat munde

Author

अमेरिका- ईरान सम्बन्धों के परिपेक्ष्य में देखा जाए तो अमेरिका पूरी दुनिया को चुनौती दे रहा है अमेरिका के पास ऐसा कोई प्रमाण नहीं है कि अगर ईरान से तेल आयात पर प्रतिबंध लगा दिया जाए तो ईरान परमाणु कार्यक्रम का विकास नहीं करेगा जबकि अमेरिका ये अच्छे से जानता है तेल निर्यात को प्रतिबंध किए जाने से इसका प्रभाव उन सभी देश के अर्थ्यवस्थाओं पर प्रभाव पड़ेगा जो ईरान से तेल आयात करते है। सऊदी अरब अमेरिका के साथ है जो आईएसआईएस इस्लामिक स्टेट इराक़ एंड सीरिया का भाग है। ईरान से तेल आयात पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद सऊदी अरब कच्चा तेल के मूल्य में वृद्धि कर एक बड़े आयातक के रूप में सामने आएगा और आर्थिक लाभ की संभावनाएं पर्याप्त है और सऊदी अरब ऐसे मौके का लाभ उठाने से कभी नहीं चूकेगा ।रही बात ऐसे परिस्थिति में भारत को क्या करना चाहिए जैसा की देखा जा रहा है चीन अमेरिका का विरोध कर रहा है, साथ ही चीन ईरान से सबसे अधिक तेल आयात करता है, जहां तक रही बात आतंकवाद की तो सभी देश एक साथ है संयुक्त राष्ट्र संघ में यह मुद्दा उठाया जाना चाहिए और संयुक्त राष्ट्र संघ के निर्णय का पालन किया जाना चाहिए। ईरान से तेल आयातक सभी देशों को एकजुट होकर संयुक्त राष्ट्र संघ में अमेरिका के विरूद्ध आवाज उठाना चाहिए।

Author — Suman Maurya

Author

भारत को अमेरिका के दबाव में नहीं आना चाहिए क्योंकि एक संप्रभु देश को प्राथमिकता के तौर पर राष्ट्रीय हित को अपनाना चाहिए .

Author — THE CONQUEROR

Author

Plesae use maps for more understanding

Author — online marriage

Author

भारत को सामान्य कीमत स्तर के साथ साथ अन्य सभी राजनीतिक, रणनीतिक एवं कुटनीतिज्ञ प्रभाव को ध्यान में रखते हुए दीर्धकालीन नीति बनाने की आवश्यकता है।
नीति निर्माताओं इस बात को ध्यान में रखे कि सामान्य जन पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पढ़े।
Thanks rstv

Author — Shahnawaz Mohammad

Author

American apni manmani karte h .
Bharat Ko apni jarurate pe Dhyan Dena chahiya
Iran jaisa dost nahi milega dusara.

Author — SUMITkumar study group

Author

इतने कम समय में किसी विषय को उसकि बारिकियों सहित समझाना कोई आसान बात नहीं है. आपकी पूरी टीम को बहुत बहुत धन्यवाद.

Author — DHEERAJ PAKHARE